भ्रष्टाचार के मामले में नवाज शरीफ को 10 और उनकी बेटी को 7 साल की सजा, पाक में सियासी भूचाल

नई दिल्लीः भ्रष्टाचार के एक मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को 10 साल की सजा सुनाई गई है। इसके साथ ही उनकी बेटी मरियम को भी कोर्ट ने 7 साल की सजा सुनाई गई है। यह सजा पाकिस्तान की एक अदालत ने शुक्रवार को सुनाई।

अदालत के 100 पन्ने के फैसले में नवाज शरीफ पर 1 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया गया है। वहीं नवाज की बेटी मरियम पर 26 लाख डॉलर का जुर्माना लगाया गया है।

फैसले में शरीफ के दामाद कैप्टन (अवकाशप्राप्त) सफदर को एक साल की सजा सुनाई गई है। ये फैसला पनामा पेपर्स कांड से जुड़े भ्रष्टाचार के तीन मामलों में से एक में आया है। ये फैसला पाकिस्तान में 25 जुलाई को होने वाले आम चुनावों से कुछ सप्ताह पहले सुनाया गया है। नवाज की बेटी मरियम पाकिस्तान में चुनाव लड़ रहीं है।

जाहिर है कि कोर्ट के इस फैसले से पाकिस्तान के सियासी संग्राम पर असर पड़ेगा।

लंदन में पॉश एवेनफील्ड हाउस में चार फ्लैटों के स्वामित्व से जुड़े एवेनफील्ड भ्रष्टाचार मामले में चार बार स्थगित करने के बाद अदालत ने अपना फैसला सुनाया।

अभी 68 वर्षीय शरीफ लंदन में हैं जहां उनकी पत्नी कुलसूम नवाज के गले के कैंसर का इलाज चल रहा है। जवाबदेही कोर्ट के न्यायाधीश मोहम्मद बशीर ने बंद कमरे में फैसला सुनाया।

बता दें कि शरीफ और उनके तीन बच्चों के खिलाफ जवाबदेही अदालत में भ्रष्टाचार के 3 मामले चल रहे हैं। पनामा पेपर मामले में पिछले साल सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद नेशनल अकाउंटबिलिटी ब्यूरो ने जवाबदेही अदालत में मामला दायर किया था।