ट्रांस्पोर्ट नगर नहीं बनेगा पंडरा बाजार



रांची, 14 सितम्बर:  झारखण्ड चैंबर आॅफ काॅमर्स के नेतृत्व में रांची चैंबर आॅफ काॅमर्स तथा प्रदेश के विभिन्न जिलों के चैंबर प्रतिनिधियों का एक प्रतिनिधिमण्डल कृषि मंत्री रणधीर सिंह से मिला। बैठक के दौरान चैंबर ने मंत्री को बाजार समिति प्रांगण पंडरा में ट्रांस्पोर्ट (परिवहन) नगर बनाये जाने के निर्णय से आपत्ति जताई गई। कहा कि बाजार प्रांगण में 800 से भी ज्यादा दुकानों और गोदाम के माध्यम से व्यापार संचालित है। यदि यहां पर इन संरचनाओं को हटाकर या लोगों को विस्थापित कर ट्रांस्पोर्ट नगर बनाया जायेगा तो 800 दुकानदारों, उसमें कार्यरत कर्मचारियों, सामान को लादने-उतारने के कार्य में लगे श्रमिकों, माल वाहकों, बाजार में कार्यरत दलालों और बाजार में अन्य कार्य में लगे लोग बेरोजगार हो जायेंगे और उनके एवं उनके परिवार के समक्ष रोजी-रोटी की भारी समस्या उत्पन्न हो जायेगी। के्रता, उपभोक्ता, किसान और व्यापारी सभी को भारी परेशानी का सामना करना पडेगा, राज्य की आपूर्ति व्यवस्था भी भंग होगी। किसी एक व्यापार को उजाडकर, किसी अन्य को स्थापित करना, न्यायसंगत नहीं है। सरकार की इस योजना से माननीय प्रधानमंत्री जी के महत्वकांक्षी राष्ट्रीय बाजार (ई-ट्रेडिंग) के योजना भी विफल होगी, जिसपर विचार आवश्यक है।

यह भी अवगत कराया गया कि दिनांक 9 मई 2017 को झारखण्ड राज्य के कृषि बाजार समितियों के दुकानों एवं गोदामों का किराया का निर्धारण श्रेणियों के आधार पर तय किया गया था। जिसके अंतर्गत ए श्रेणी की मंडियों 4.00 रू0 प्रति वर्गफीट प्रतिमाह, बी श्रेणी की मंडियों 3.75 रू0 प्रति वर्गफीट प्रतिमाह, सी श्रेणी की मंडियों 3.50 रू0 प्रति वर्गफीट प्रतिमाह, डी श्रेणी की मंडियों 3.25 रू0 प्रति वर्गफीट प्रतिमाह निर्धारित की गई थी। किंतु अधिसूचना के अभाव में झारखण्ड के मंडियों के सचिवों के द्वारा वर्तमान में निर्धारित भाडा के स्थान पर विवादित भाडा का नोटिस दिया जा रहा है। इसकी जानकारी देते हुए चैंबर ने पूर्व के बैठक में तय भाडे की अधिसूचना जारी करने का आग्रह किया।

कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने प्रतिनिधिमंडल को स्पष्ट रूप से बताया कि पंडरा बाजार में ट्रांस्पोर्ट नगर बनाये जाने का कोई भी प्रस्ताव हमारे विभाग द्वारा नहीं दिया गया है। पंडरा बाजार में ट्रांस्पोर्ट नगर का निर्माण नहीं होगा। यह भी कहा कि बाजार मंडियों में अवस्थित दुकानों/गोदामों का भाडा दिनांक 9 मई 2017 के संपन्न त्रिपक्षीय वार्ता में निर्धारित भाडे के अनुसार ही देय होगा। इस हेतु पुनः 17 सितम्बर को नेपाल हाउस में विभागीय सचिव, मार्केटिंग बोर्ड और झारखण्ड के व्यापारियों के साथ बैठक आहूत कर भाडे की अधिसूचना जारी करने एवं बाजार समिति संबंधित समस्याओं का निदान किया जायेगा।

 बैठक के दौरान चैंबर अध्यक्ष रंजीत गाडोदिया, उपाध्यक्ष दीनदयाल वर्णवाल, सह सचिव प्रवीण जैन छाबडा, कोषाध्यक्ष राहुल मारू, पूर्व अध्यक्ष पवन शर्मा, रांची चैंबर के अध्यक्ष शम्भू प्रसाद गुप्ता, हरि कनोडिया, संजय महुरी, अनिल शर्मा, पंकज चौधरी, आलू प्याज संघ के रामलखन साहू, मदन प्रसाद, रामएकबाल चौधरी, रमाशंकर साहू, बोकारो से अनिल गोयल, पप्पू केसरवानी, गणेश गुप्ता, जमशेदपुर से मिंटठृ अग्रवाल, रामगढ से अमित साहू, धनबाद से सुनिल अग्रवाल, गोपाल अग्रवाल, मंजीत सिंह, हजारीबाग से ओमप्रकाश अग्रवाल सहित काफी संख्या में राज्य के व्यापारीगण सम्मिलित थे।