बंगाल में फेसबुक की वजह से फैली हिंसा ,लगाना पड़ा अर्धसैनिक बल

एनएन आई      पश्चिम बंगाल के 24 परगना जिले में फेसबुक पोस्ट को लेकर भड़की सांप्रदायिक हिंसा के बाद केंद्र सरकार ने मंगलवार को यहां 400 अर्द्धसैन्य बल और बीएसएफ जवानों को हालात पर काबू पाने के लिए भेजा है. शुक्रवार को पैगम्बर मुहम्मद के बारे में फेसबुक पर हुए एक पोस्ट के बाद 24 परगना जिले के कई इलाकों में सांप्रदायिक हिंसा भड़क गई. फेसबुक पर पोस्ट को डालने वाले बदुरिया के 17 साल के छात्र को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। 

पुलिस ने बताया कि बसीरहाट अनुमंडल के बदुरिया में दो समुदायों के सदस्यों के बीच मंगलवार रात पोस्ट को लेकर झड़पें शुरू हुईं. उसके बाद एक युवक को गिरफ्तार किया गया है. बसीरहाट में अभी भी लगातार हालात बिगड़े हुए हैं. बसीरहाट, स्वरुपनगर, बदुरिया और देगंगा में बीएसएफ की चार कंपनियां तैनात हैं. इसके अलावा इलाके में इंटरनेट सेवा बिल्कुल बंद कर दी गई है और धारा 144 भी लगाई गई है। 

गौरतलब है कि कोलकाता से सटे उत्तर 24-परगना जिले के बशीरहाट व बादुड़िया इलाके में एक आपत्तिजनक फेसबुक पोस्ट पर सांप्रदायिक हिंसा भड़कने के बाद राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी में ठन गई है। 

वहीं मामले में प्रदेश के बीजेपी प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने बुधवार को ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा है कि पूरे बंगाल में अराजकता फैली है। साथ ही उन्होंने ममता के धमकाने संबंधी आरोपों से इनकार किया है। ममता सरकार पर वार करते हुए उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में हिंदुओं के घर जलाये जा रहे हैं। उन्हें इस्तीफा देना चाहिए क्योंकि उनसे कानून व्यवस्था नहीं संभल रही है।

इससे पहले ममता ने एक प्रेस कांफ्रेंस में राज्यपाल पर धमकी देने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि राज्यपाल की भाषा से वे खुद को अपमानित महसूस कर रही हैं। इस बीच, इस हिंसा पर अंकुश लगाने के लिए केंद्र सरकार ने अर्धसैनिक बलों के तीन सौ जवानों को मौके पर रवाना कर दिया था।