लापरवाही ! यहाँ तो बिना गाँधी जी के बैंक ने दिए दो किसानों को नोट !



ग्वालियर -: एनएनआई   ग्वालियर में रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया की लापरवाही का मामला तब देखने को मिला जब बैंक ने दो किसानों को दो हजार के ऐसे नोट थमा दिए जिनमे राष्ट्रीय पता महात्मा ग़ांधी की फोटो ही नहीं थी ! हलाकि किसानों की शिकायत पर बैंक ने नोट वापस तो ले लिये पर सवाल यह उठता ह की यह नोट बैंक की लापरवही से बैंक में आये की नोट बंदी के समय नोट प्रिंट करते रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया की भूल का नतीजा है !हलाकि  इस मामले में  बड़ौदा ब्रांच के मैनेजर श्रवण कुमार मीणा ने बताया कि श्योपुर की SBI मुख्य शाखा से 49 लाख रुपए मंगाए गए थे, आवर ये नोट उन्ही नोट में से निकले है !
- उन्होंने कहा कि दो कस्टमर्स के नोटों में गांधी जी की फोटो नहीं थी। नोटों को जमा करा लिया गया है। चेस्ट में वापसी के बाद राशि कस्टमर्स के एकाउंट में डिपॉजिट कर दी जाएगी।

- पहला केस किसान गुरमीत सिंह का है। कैश काउंटर से गुरुमीत ने 8 हजार रुपए निकाले। उसे 2000 रुपए के 4 नोट दिए गए।
- चारों नोटों से गांधी जी की तस्वीर नहीं थी। गुरमीत ने अपने भाई को भी नोट दिखाए। उसने भी हैरानी जताई।
- दोनों भाई वापस बैंक में गए मैनेजर को नोट दिखाए, पहले तो मैनेजर ने मना किया। लेकिन, जांच के बाद नोट वापस कर लिए।
- दूसरा केस बिच्छू बाबड़ी के किसान लक्ष्मण सिंह मीणा का है। जिसे बैंक ने 2 हजार के 3 नोट दिए। इन पर भी गांधी जी का फोटो नहीं था।
- लक्ष्मण सिंह के नोट कई घंटों बाद शाम 6 बजे बैंक प्रबंधन ने जमा कर लिए।
बैंक ने मेन ब्रांच से मंगवाए थे 49 लाख!