डिजिटल लेन-देन में मंत्रियों, अधिकारियों से बेहतर हैं शराबी: चंद्रबाबू नायडू

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने नकदी रहित लेन देन नहीं करने वाले अपने मंत्रियों और नौकरशाहों को आड़े हाथों लिया. मुख्यमंत्री ने व्यंग्य करते हुए शराबियों की प्रशंसा की और कहा कि डिजिटल अर्थव्यवस्था के अनुकूल शीघ्र ढलने के मामले वे अच्छे हैं.

नायडू ने एक बैठक में मौजूद मंत्रियों एवं 200 से अधिक नौकरशाहों से कहा कि डिजिटल अर्थव्यवस्था को अपनाने वाले लोग अपने हाथ उपर करें, जिस पर बहुत कम हाथ उपर उठे. इसके बाद नायडू ने कहा, ‘‘आप में से 25 प्रतिशत भी नकदी रहित लेन देन नहीं कर रहे. यदि आप ऐसा करेंगे तो देश में सुधार कैसे होगा? यह नहीं होगा. यह सबसे बड़ी चुनौती है. आपकी मानसिकता को बदलना होगा.’’

उन्होंने कहा, ‘‘देखिए, शराब की दुकानों में किस प्रकार प्वाइंट ऑफ सेल मशीनों का इस्तेमाल हो रहा है. एक शराबी यदि शाम को शराब नहीं पीता, तो उसका दिमाग काम नहीं करेगा और इसी लिए उसने नकदी रहित लेन देन करना सीख लिया है. उसने जरूरत के चलते ऐसा किया है.’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘आप सभी को भी डिजिटल अर्थव्यवस्था को अपनाना चाहिए.’’ डिजिटल लेने देन पर 13 सदस्यीय केंद्रीय समिति की अध्यक्षता कर रहे नायडू ने नोटबंदी के बाद धन प्राप्त करने में पेंशनभोगियों को हो रही परेशानी के मद्देनजर कहा कि उन्होंने कल्याण पेंशनों को लाभार्थियों के बैंक खातों में डालकर गलती की और अगले महीने से पेंशन 500-500 रपए की दो किश्तों में नकद दी जाएगी.