1 रु में इडली और 5 रु में सांभर-चावल 'खिलाकर' लोगों के दिल में और गहरे से बस गई थीं जयललिता

 कहा जाता है कि तमिलनाडु में जयललिता द्वारा शुरू करवाई गई 'अम्मा कैंटीन' में देश में सबसे सस्ता खाना खिलाया जाता है. 2013 में शुरू की गई अम्मा कैंटीन में दो रुपए में दो इडली और सांभर यानी 1 रुपए में 1 इडली, और पांच रुपए में सांभर व चावल दिया जाता है.
दैनिक भास्कर के ऑनलाइन संस्करण में छपी खबर के मुताबिक, यह कैंटीन पूरी तरह से सब्सिडी से चलती है और इसके जरिए रोजगार के अवसर भी पैदा हुए हैं. खासकर महिलाओं के लिए ये कैंटीनें एंप्लॉयमेंट भी मुहैया करवा रही हैं. दरअसल ये कैंटीनें एक साउथ इंडियन वेजिटेरियन रेस्टोरेंट चेन हैं. यह नॉन प्रॉफिट ऑर्गनाइजेशन है और इसका मालिक तमिलनाडु का सीएम होता है. राज्य सरकार का नगर निगम अम्मा कैंटीन चलाता है. तमिलनाडु में पूरे राज्य में 300 से ज्यादा अम्मा कैंटीन हैं. इनमें से आधी कैंटीन तो अकेले चेन्नई में हैं. यहां प्रतिदिन साधारण ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर दिया जाता है जिसकी कीमत काफी होती है. अम्मा कैंटीन के बाहर बोर्ड पर टाइम-टेबल और प्राइस लिस्ट लगाई गई है.
कैंटीन में सुबह का नाश्ता 7 बजे से 10 बजे तक मिलता है. इसमें इडली एक रुपए में और पोंगल राइस पांच रुपए में मिलता है. दोपहर लंच का समय 12 बजे से 3 बजे तक का है. इसमें सांभर- चावल, लेमन राइस, करी पत्ता चावल 5 रुपए में और दही-चावल तीन रुपए में परोसा जाता है. वहीं, रात का डिनर के लिए शाम 5 बजे से 7:30 बजे तक का समय तय किया गया है. इसमें दो चपाती और दाल महज तीन रुपए में दी जाती है.
इन कैंटीनों पर सरकार की ओर से लगने वाली सालाना लागत 250-300 करोड़ रुपए है. हालांकि शुरू में कैंटीन को लेकर यह आलोचना की गई कि इसके चलते नगर निगम को काफी ज्यादा नुकसान उठाना पड़ रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक यह भी कहा गया कि सरकार की इस स्कीम से छोटे बिजनेस वेंचर, खासकर फूड चैन, कारोबार चलाने में सक्षम नहीं हो पा रहे हैं और उनके बिजनेस को कड़ी टक्कर मिल रही है.
आम आदमी की पहुंच के भीतर बेहद सस्ता और साफ सुथरा खाना मुहैया करवाने वाली अम्मा कैंटीन (अम्मा उनावगम) की लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्हें पिछले लोकसभा चुनावों में जबरदस्त जीत मिली थी.